Best Welcome Shayari : अतिथि देवो भव: अर्थात मेहमान भगवान का रूप होते है । जिनका हम पूरे आदर सम्मान के साथ स्वागत करते है । मेहमानों का स्वागत केवल घर में ही नहीं किया जाता । अपने स्कूल,कॉलेज या ऑफिस में भी कई बार ऐसे अवसर आते है जब हमे मेहमानों का स्वागत करना होता है । ऐसे में उनका स्वागत करने के साथ यदि आप उनके सम्मान में Welcome ki Shayari बोलते है तो उनका मन भी खुशी से भर जाता है । इसलिए आज इस लेख के माध्यम से हम आपको कुछ ऐसे ही खास मौकों के लिए देने जा रहे – Welcome ke Liye Shayari.

इन स्वागत उद्बोधन Shayari का उपयोग आप For chief Guest, for Freshers & for Teachers को invite के लिए भी कर सकते है । इसके साथ ही यदि आप Wedding Welcome Shayari for freshers party या farewell Welcome Back Shayari की तलाश कर रहे है तो यहाँ आपके लिए new collection of Welcome Shero Shayari भी उपलब्ध है । जिन्हे आप in Gujarati, in English में भी देख सकते है ।

वेलकम शायरी हिंदी

#1

देर लगी आने में तुम को शुक्र है फिर भी आए तो आस ने दिल का साथ न छोड़ा वैसे हम घबराए तो

#2

मीठी बात और चेहरे पर मुस्कान, ऐसे लोग ही है हमारी महफ़िल के शान.

#3

स्वीकार आमंत्रण किया, रखा हमारा मान, कैसे करे कृतज्ञता, स्वागत है श्री मान..।

#4

हार को जीत की एक दुआ मिल गई तपन मौसम में ठंडी हवा मिल गई। आप आये श्री मान जी यू लगा, जैसे तकलीफ को कुछ दवा मिल गई।

#5

दिल को सुकून मिलता हैं मुस्कुराने से. महफ़िल में रौनक आती है दोस्तों (आप) के आने से

#6

आये वो हमारी महफ़िल में कुछ इस तरह कि हर तरफ़ चाँद-तारे झिलमिलाने लगे। देखकर दिल उनको झूमने लगा, सब के मन जैसे खिलखिलाने लगे।

#7

सबके दिलों में हो सबके लिए प्यार, आने वाला हर पल लाये खुशियों का बहार, इस उम्मीद के साथ भुलाके सारे गम इस आयोजन का करें वेलकम.

#8

आपका स्वागत है श्रीमान। बड़े भाग्य जो आप बने हैं- हम सबके मेहमान॥ हुए मनोरथ पूर्ण हमारे- माननीय से मिलकर। चार चाँद लग गये हमारे- इस पावन अवसर पर॥ आज आपके शुभागमन पर- बढ़ी हमारी शान।

#9वेलकम शायरी इन हिन्दी 1

कौन आया कि निगाहों में चमक जाग उठी, दिल के सोये हुए तरानों में खनक जाग उठी, किसके आने की खबर ले कर हवाएँ आई रूह खिलने लगी साँसों में महक जाग उठी

#10

bhare haiñ tujh meñ vo lākhoñ hunar ai majma-e-ḳhūbī mulāqātī tirā goyā bharī mahfil se miltā hai

#11

कौन पहुंचा है कभी अपनी आखरी मंजिल तक, हर किसी के लिए थोडा आसमान बाकि है… ये तुझको लगता है तू उड़ने के काबिल नहीं, सच तो ये है की तेरे पंखों में अभी भी उड़न बाकि है|

#12

दिलों में विश्वास पैदा करता है, हम सुब में कुछ आस पैदा करता है… मिटटी की बात तो अलग है, इश्वर तो पत्थरों में भी घास पैदा करता है|

#13

अतिथि देव बन आप पधारे, स्वागत हो स्वीकार। द्वार हमारे आप आ गये- सहज लुटाते प्यार॥ साधन कम पर भाव विह्वल हैं- स्वागत को श्रीमान्। आशा है स्वीकार करेंगे, भाव सुमन का हार॥

#14

अजीज के इन्तजार में ही पलके बिछाते हैं, महफ़िलो की रौनक खास लोग ही बढ़ाते हैं.

#15

कौन आया, रौशन हो गयी महफ़िल किसके नाम से मेरे घर में जैसे सूरज निकला है शाम से.

#16

वो खुद ही नाप लेते हें बुलंदी आसमानों की, परिंदों को नहीं तालीम दी जाती उड़ानों की। महकना और महकाना तो काम है खुशबु का खुशबु नहीं मोहताज़ होती क़द्रदानों की..।

#17

सौ चाँद भी आ जाएँ तो महफ़िल में वो बात न रहेगी, सिर्फ आपके आने से ही महफ़िल की रौनक बढ़ेगी.

#18

हसरतो ने फिर से करवट बदली है, आप आये तो बलखा के बहारें आईं।

#19

हमारी महफ़िल में लोग बिन बुलायें आते हैं, क्योकि यहाँ स्वागत में फूल नहीं पलकें बिछाये जाते हैं।

#20

शब्दों का वजन तो हमारे बोलने के भाव से पता चलता हैं, वैसे तो, दीवारों पर भी “वेलकम” लिखा होता हैं.

#21

रोली तिलक थाल मे, श्री फल लिया सजाये, स्वागत को श्री मान के, भेट दुशाला लाये..।।

#22वेलकम शायरी इन हिन्दी 2

आये वो हमारी महफ़िल में कुछ इस तरह,
कि हर तरफ़ चाँद-तारे झिलमिलाने लगे,
देखकर दिल उनको झूमने लगा,
सब के मन जैसे खिलखिलाने लगे… 😇😇😇

#23

जो दिल का हो ख़ूबसूरत,
ख़ुदा ने ऐसे लोग कम बनाये हैं,
जिन्हें ऐसा बनाया है खुदा ने,
आज वो हमारी महफ़िल में आये हैं…

#24

कौन आया है कि निगाहों में चमक जाग उठी,
दिल के सोये हुए तरानों में खनक जाग उठी,
किसके आने की खबर ले कर हवाएँ आई,
रूह खिलने लगी साँसों में महक जाग उठी..

#25

खूबसूरत सी हवेली का पता तुम सा ही होगा
प्यार की बस्ती का हर एक रास्ता तुम सा ही होगा
फूल की हर एक पंखुड़ी होगी तुम्हारी प्रीत जैसी
प्रीत के मंदिर का हर एक देवता तुम सा ही होगा

#26

सबके दिलों में हो सबके लिए प्यार,
आने वाला हर पल लाये खुशियों की बहार,
इस उम्मीद के साथ भुलाके सारे गम,
इस आयोजन का आओ हम करें वेलकम… 🤗🤗🤗

#27

चाँदनी रात बड़ी देर के बाद आयी,
ये मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी,
आज आये हैं वो मिलने मुद्दत के बाद,
आज की रात बड़ी देर के बाद आयी…

#28

हर गली अच्छी लगी,
हर एक घर अच्छा लगा,
वो जो आया शहर में,
तो शहर भर अच्छा लगा… 😇😇😇

#29

मुबारक शाम की आमद मुबारक
यह किसी की याद ले कर आ रही है

#30

हार को जीत की एक दुआ मिल गई
तपन मौसम में ठंडी हवा मिल गई।
आप आये श्री मान जी यू लगा,
जैसे तकलीफ को कुछ दवा मिल गई।

#31

आये वो हमारी महफ़िल में कुछ इस तरह
कि हर तरफ़ चाँद-तारे झिलमिलाने लगे।
देखकर दिल उनको झूमने लगा,
सब के मन जैसे खिलखिलाने लगे।।।

#32

ये कौन आया, रौशन हो गयी महफ़िल किसके नाम से
मेरे घर में जैसे सूरज निकला है शाम से..

#33

बुझते हुए चराग़ फ़रोज़ाँ करेंगे हम,
तुम आओगे तो जश्न-ए-चराग़ाँ करेंगे हम।

#34वेलकम शायरी इन हिन्दी 3

चाँदनी रात बड़ी देर के बाद आयी,
ये मुलाक़ात बड़ी देर के बाद आयी।
आज आये हैं वो मिलने मुद्दत के बाद,
आज की रात बड़ी देर के बाद आयी।

#35

आप आये यहाँ शुक्रिया मेहरबां
क्या कहें आपको हम हुये बेजुबाँ
यह सभा हर्ष से हो गई तरबतर
नूर से भर गया है ये सारा शमाँ।

#36

हर गली अच्छी लगी हर एक घर अच्छा लगा,
वो जो आया शहर में तो शहर भर अच्छा लगा।

#37

जो दिल का हो ख़ूबसूरत ख़ुदा ऐसे लोग कम बनाये हैं,
जिन्हें ऐसा बनाया है आज वो हमारी महफ़िल में आये हैं।

#38

रोली तिलक थाल मे, श्री फल लिया सजाये,
स्वागत को श्री मान के, भेट दुशाला लाये..।।

Top welcome shayari for audience

#39

जो दिल का हो ख़ूबसूरत ख़ुदा ऐसे लोग कम बनाये हैं,
जिन्हें ऐसा बनाया है आज वो हमारी महफ़िल में आये हैं.

#40

बुझते हुए चराग़ फ़रोज़ाँ करेंगे हम,
तुम आओगे तो जश्न-ए-चराग़ाँ करेंगे हम।

#41

वो आए घर में हमारे ख़ुदा की क़ुदरत है
कभी हम उन को कभी अपने घर को देखते हैं

#42

हर तरह की बे-सर-ओ-सामानियों के बावजूद
आज वो आया तो मुझ को अपना घर अच्छा लगा
अहमद फ़राज़

#43

उस ने वा’दा किया है आने का
रंग देखो ग़रीब ख़ाने का
जोश मलीहाबादी

#44

तुम आ गए हो तो कुछ चाँदनी सी बातें हों
ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है
वसीम बरेलवी

#45

देर लगी आने में तुम को शुक्र है फिर भी आए तो
आस ने दिल का साथ न छोड़ा वैसे हम घबराए तो
अंदलीब शादानी

#46

इस उम्मीद के साथ भुलाके सारे गम,
इस आयोजन का आओ हम करें वेलकम

welcome karne ke liye shayari

#47

सुनकर कर दे अनसुना ऐसी इनकी आवाज नहीं
मिलकर भूल जाए कोई ऐसे इनके अल्फाज नहीं
किसी महफ़िल में छुप जाए ऐसे इनके अंदाज नहीं
सूरज से दमकते हैं ये किसी परिचय के मोहताज नहीं

Latest atithi swagat shayari

#48

मीठी बातें और चेहरे पर मुस्कान
ऐसे ही अतिथि हैं हमारी महफ़िल की शान

#49

अतिथि सत्कार बिना हर अरदास अधूरी होती है
अतिथि ही वो फरिश्ते हैं जिनके आने से आस पूरी होती है

Special welcome speech shayari

#50

खूबसूरत सी हवेली का पता तुम सा ही होगा
प्यार की बस्ती का हर एक रास्ता तुम सा ही होगा
फूल की हर एक पंखुड़ी होगी तुम्हारी प्रीत जैसी
प्रीत के मंदिर का हर एक देवता तुम सा ही होगा

shayari to welcome someone

#51

महफिल से उठना है तो थोड़ा सोच-समझकर उठना
आज हमारे दिल के अजीज आए हुए हैं
देनी है उन्हें कोई सौगात तो दिली तालियों से सम्मान देना
वो बेशकीमती हुनर की दौलत पाए हुए

welcome love shayari

#52

फितरत बन चुकी है
दिल-ए-बेकरार की
अब तो आदत सी हो गई है
आपके इंतजार की

#53

महक उठा ये घर आंगन
जब से आप पधारे हैं
ऐसा एहसास होता है
जन्मों से आप हमारे हैं

Swagat Shayri in marathi

#54

दिव्यत्वाची जेथ प्रचिती। तेथे माझे कर जुळती।। या बोरगावकारांच्या पंक्तीना सार्थ ठरवून, तद्वत दिव्यत्वाची प्रचीती करून देणारा हा अतिथी गण…

#55

अवकाशी मेघ दाटून आल्यावर आनंदाने बेभान होऊन नृत्य करणाऱ्या त्या मयुरासमान आतुर झालेला हा प्रेक्षकवृंद…

स्वागत शायरी – Shayari for Welcome – Swagat Shayari in Hindi
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

To Top