शायरी (Shayari)

Shayari Ki Diary

शायरी की डायरी : वैसे हम आपको बता देते है की आजकल शायरियो का जमाना है इसीलिए हर कोई अपनी बात शायरी के अंदाज़ में कहना चाहते है और कई लोग खुद की शायरियां लिखते भी है इसीलिए आपको अपनी इस पोस्ट शायरी की डायरी के माध्यम से कुछ मशहूर शायर जैसे ग़ालिब, ख्वाजा गरीब नवाज़ जैसे शायरों की कुछ मशहूर दर्द भरी शायरी और दिल छुने वाली शायरी जो की प्रेरणादायक होती है आप उन्हें पढ़ सकते है इसके अलावा उनके दो लाइन के शेर भी पढ़े और जाने उनके बारे में बहुत कुछ | तो आप हमारी नीचे दिउ हुई ऐसी ही क्कुह शायरी पढ़ सकते है और उन्हें अपने दोस्तों के साथ शेयर भी कर सकते है |

यहाँ भी देखे : Zakir Khan Shayari

Zindagi ki Shayari in Hindi

कोई कहता है कैसी
अनसुलझी किताब हु मैं …..
और …!
कोई पढ़ लेता हैं यूँ
जैसे कोई खुली किताब हु मैं …

“भरती हूँ उन तमाम रंगों को रोजाना
तेरे दामन में ….
ए जिन्दगी …………
न जाने किस रंग की तलाश में तू ,
उदास है अब तक …..”

“ये कैसी कश्मोकश है
तेरे मेरे दरमिया……….
इकरार भी …है
इनकार भी ….है
फिर कहते हो कभी
की……
हमे तुमसे प्यार भी है ।”

यहाँ भी देखे : Shayari on Life

Only Love Dairy

” हाय ये तेरी नजरो का पैनापन
इतनी गहराई समाई है इनमे
की अब तो तैरने से भी डर लगता है …..”

“जाने किस बात की सज़ा दी उन्होंने हमे ………….
पहले कुछ न कह कर भी रुलाते रहे …….
और आज ……
इतना कुछ कह कर भी रुला दिया …..”

“हमने…उन्हें ,
कभी लोगो से बचाया ,
कभी जमाने से छुपाया …
कमबख्त …..
दीदार इतना जिद्दी था उनका ,
की हमारी ही नजरो से न बच पाया ……..”

Shayari Ki Diary

Shayari ki Duniya Facebook

“डरते थे हम…..जिस अंजाम के डर से ….
आज जाने क्या हुआ ऐसा
की डर भी न लगा …..
और एक अनजान
अंजाम हो गया ………..”

“दुनिया के भीड़ में था तू अकेला
पर कारवां बनता चला गया ,
नामुमकिन भी मुमकीन बनता चला गया……………
न किया वार तलवार से ,
पर तेरा कलम कम न था किसी हथियार से
तेरी ही बातों से गुमराहो का
रास्ता बनता चला…………………
नजरवालों को नया
नजरिया मिलता चला गया
था तो…… तू अकेला ही
पर कारंवा बनता चला गया ……….”

नसीब से फरियाद तो कर सकते हैं
वीरानों को आबाद तो कर सकते हैं
क्या हुआ आप से मिल नहीं सकते
एस एम एस भेज कर आप को याद तो कर सकते हैं।

यहाँ भी देखे : Wasim Barelvi Shayari

shayari ki dukan

काश कोई हम पर प्यार जताता
हमारी आंखों को अपने होंठों से छुपाता
हम जब पूछते कौन हो तुम
मुस्कुरा कर वो अपने आप को हमारी जान बताता।

हमारी खामोशी हमारी आहट है
हमारी आंखें हमारी चाहत हैं
हमारी जिंदगी अगर खूबसूरत है
तो उसकी वजह बस आपकी मुस्कुराहट है।

जिनकी आंखें आंसू से नम नहीं
क्या समझते हो उसे कोई गम नहीं
तुम तड़प कर रो दिये तो क्या हुआ
गम छुपा के हंसने वाले भी कम नहीं।

You have also Searched for : 

dear diary shayari image
my personal diary shayari
lovely diary images
meri diary se status

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

you can contact us on my email id: harshittandon15@gmail.com

Copyright © 2016 कैसेकरे.भारत. Bharat Swabhiman ka Sankalp!

To Top