शकील बदायुनी शायरी इन हिंदी – उर्दू ग़ज़लें व गीत

Love Shayari Shakeel Badayuni

Shakeel Badayuni Shayari In Hindi – Urdu Ghazale Va Geet : शकील बदायुनी हिंदी व उर्दू के विश्व-विख्यात पोएट है इनका जन्म 3 अगस्त 1916 में उत्तर प्रदेश राज्य के बदायू जिले में हुआ था वह बॉलीवुड में के लिए भी कई करते है तथा उन्होंने बॉलीवुड के लिए भी कई गीत लिखे है इनकी मृत्यु 20 अप्रैल 1970 में मुंबई शहर में हुई थी | इसीलिए हम आपको शकील बदायुनी जी द्वारा लिखी गयी कुछ शेरो व शायरियो के बारे में बताते है जो की आपके लिए काफी महत्वपूर्ण हैं जिन्हे पढ़ कर आप उनके बारे में काफी कुछ जान सकते है |

यह भी देखे : मजरूह सुल्तानपुरी शायरी इन हिंदी – शेर व गजल

Love Shayari Shakeel Badayuni

लव शायरी शकील बदायुनी : शकील बदायुनी जी की लविंग शायरियो को जानने के लिए यहाँ से पढ़े व इसके अलावा आप शकील बदायुनी की जीवनी, Shakeel Badayuni Biography In Hindi, Shakeel Badayuni Naat, Shakeel Badayuni Quotes,  Shakeel Badayuni Books जानना चाहते है तो यहाँ से जान सकते है :

‘शकील’ इस दर्जा मायूसी शुरू-ए-इश्क़ में कैसी
अभी तो और होना है ख़राब आहिस्ता आहिस्ता

मुझे दोस्त कहने वाले ज़रा दोस्ती निभा दे
ये मुतालबा है हक़ का कोई इल्तिजा नहीं है

हम से मय-कश जो तौबा कर बैठें
फिर ये कार-ए-सवाब कौन करे

मुझे तो क़ैद-ए-मोहब्बत अज़ीज़ थी लेकिन
किसी ने मुझ को गिरफ़्तार कर के छोड़ दिया

वो हवा दे रहे हैं दामन की
हाए किस वक़्त नींद आई है

सुना है ज़िंदगी वीरानियों ने लूट ली मिल कर
न जाने ज़िंदगी के नाज़-बरदारों पे क्या गुज़री

तुम फिर उसी अदा से अंगड़ाई ले के हँस दो
आ जाएगा पलट कर गुज़रा हुआ ज़माना

ये अदा-ए-बे-नियाज़ी तुझे बेवफ़ा मुबारक
मगर ऐसी बे-रुख़ी क्या कि सलाम तक न पहुँचे

वही कारवाँ वही रास्ते वही ज़िंदगी वही मरहले
मगर अपने अपने मक़ाम पर कभी तुम नहीं कभी हम नहीं

मुश्किल था कुछ तो इश्क़ की बाज़ी को जीतना
कुछ जीतने के ख़ौफ़ से हारे चले गए

लम्हात-ए-याद-ए-यार को सर्फ़-ए-दुआ न कर
आते हैं ज़िंदगी में ये आलम कभी कभी

ज़रा नक़ाब-ए-हसीं रुख़ से तुम उलट देना
हम अपने दीदा-ओ-दिल का ग़ुरूर देखेंगे

हर दिल में छुपा है तीर कोई हर पाँव में है ज़ंजीर कोई
पूछे कोई इन से ग़म के मज़े जो प्यार की बातें करते हैं

यह भी देखे : मोहम्मद रफ़ी सौदा शायरी

Shakeel Badayuni Ghazal Lyrics

सितम-नवाज़ी-ए-पैहम है इश्क़ की फ़ितरत
फ़ुज़ूल हुस्न पे तोहमत लगाई जाती है

मुझे छोड़ दे मेरे हाल पर तिरा क्या भरोसा है चारागर
ये तिरी नवाज़िश-ए-मुख़्तसर मेरा दर्द और बढ़ा न दे

रिंद-ए-ख़राब-नोश की बे-अदबी तो देखिए
निय्यत-ए-मय-कशी न की हाथ में जाम ले लिया

सब करिश्मात-ए-तसव्वुर हैं ‘शकील’
वर्ना आता है न जाता है कोई

ज़िंदगी आ तुझे क़ातिल के हवाले कर दूँ
मुझ से अब ख़ून-ए-तमन्ना नहीं देखा जाता

लम्हे उदास उदास फ़ज़ाएँ घुटी घुटी
दुनिया अगर यही है तो दुनिया से बच के चल

सिदक़-ओ-सफ़ा-ए-क़ल्ब से महरूम है हयात
करते हैं बंदगी भी जहन्नम के डर से हम

रहमतों से निबाह में गुज़री
उम्र सारी गुनाह में गुज़री

मुझे आ गया यक़ीं सा कि यही है मेरी मंज़िल
सर-ए-राह जब किसी ने मुझे दफ़अतन पुकारा

वो हम से ख़फ़ा हैं हम उन से ख़फ़ा हैं
मगर बात करने को जी चाहता है

मैं बताऊँ फ़र्क़ नासेह जो है मुझ में और तुझ में
मिरी ज़िंदगी तलातुम तिरी ज़िंदगी किनारा

मेरे हम-नफ़स मेरे हम-नवा मुझे दोस्त बन के दग़ा न दे
मैं हूँ दर्द-ए-इश्क़ से जाँ-ब-लब मुझे ज़िंदगी की दुआ न दे

हाए वो ज़िंदगी की इक साअत
जो तिरी बारगाह में गुज़री

शकील बदायुनी शायरी इन हिंदी - उर्दू ग़ज़लें व गीत

शकील बदायुनी के गीत | शकील बदायुनी के गाने | Shakeel Badayuni Hindi Songs

शग़ुफ़्तगी-ए-दिल-ए-कारवाँ को क्या समझे
वो इक निगाह जो उलझी हुई बहार में है

मैं नज़र से पी रहा था तो ये दिल ने बद-दुआ दी
तिरा हाथ ज़िंदगी भर कभी जाम तक न पहुँचे

ये किस ख़ता पे रूठ गई चश्म-ए-इल्तिफ़ात
ये कब का इंतिक़ाम लिया मुझ ग़रीब से

मोहब्बत ही में मिलते हैं शिकायत के मज़े पैहम
मोहब्बत जितनी बढ़ती है शिकायत होती जाती है

शाम-ए-ग़म करवट बदलता ही नहीं
वक़्त भी ख़ुद्दार है तेरे बग़ैर

वो हम से दूर होते जा रहे हैं
बहुत मग़रूर होते जा रहे हैं

मेरा अज़्म इतना बुलंद है कि पराए शोलों का डर नहीं
मुझे ख़ौफ़ आतिश-ए-गुल से है ये कहीं चमन को जला न दे

मिरी ज़िंदगी पे न मुस्कुरा मुझे ज़िंदगी का अलम नहीं
जिसे तेरे ग़म से हो वास्ता वो ख़िज़ाँ बहार से कम नहीं

यूँ तो हर शाम उमीदों में गुज़र जाती है
आज कुछ बात है जो शाम पे रोना आया

वो अगर बुरा न मानें तो जहान-ए-रंग-ओ-बू में
मैं सुकून-ए-दिल की ख़ातिर कोई ढूँड लूँ सहारा

मिरी तेज़-गामियों से नहीं बर्क़ को भी निस्बत
कहीं खो न जाए दुनिया मिरे साथ साथ चल कर

तुझ से बरहम हूँ कभी ख़ुद से ख़फ़ा
कुछ अजब रफ़्तार है तेरे बग़ैर

न पैमाने खनकते हैं न दौर-ए-जाम चलता है
नई दुनिया के रिंदों में ख़ुदा का नाम चलता है

यह भी देखे : मशहूर शायर सलीम कौसर की शायरी – शेर व ग़ज़लें

Shakeel Badayuni 2 Line Shayari

दिल की तरफ़ ‘शकील’ तवज्जोह ज़रूर हो
ये घर उजड़ गया तो बसाया न जाएगा

नई सुब्ह पर नज़र है मगर आह ये भी डर है
ये सहर भी रफ़्ता रफ़्ता कहीं शाम तक न पहुँचे

तर्क-ए-मय ही समझ इसे नासेह
इतनी पी है कि पी नहीं जाती

पी शौक़ से वाइज़ अरे क्या बात है डर की
दोज़ख़ तिरे क़ब्ज़े में है जन्नत तिरे घर की

दिल की बर्बादियों पे नाज़ाँ हूँ
फ़तह पा कर शिकस्त खाई है

नज़र-नवाज़ नज़ारों में जी नहीं लगता
वो क्या गए कि बहारों में जी नहीं लगता

छुपे हैं लाख हक़ के मरहले गुम-नाम होंटों पर
उसी की बात चल जाती है जिस का नाम चलता है

जीने वाले क़ज़ा से डरते हैं
ज़हर पी कर दवा से डरते हैं

दुश्मनों को सितम का ख़ौफ़ नहीं
दोस्तों की वफ़ा से डरते हैं

फिर वही जोहद-ए-मुसलसल फिर वही फ़िक्र-ए-मआश
मंज़िल-ए-जानाँ से कोई कामयाब आया तो क्या

जब हुआ ज़िक्र ज़माने में मोहब्बत का ‘शकील’
मुझ को अपने दिल-ए-नाकाम पे रोना आया

जाने वाले से मुलाक़ात न होने पाई
दिल की दिल में ही रही बात न होने पाई

दुनिया की रिवायात से बेगाना नहीं हूँ
छेड़ो न मुझे मैं कोई दीवाना नहीं हूँ

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*