डिस्टेंस लर्निंग एक ऐसा तरीका है जिसके माध्यम से कोई भी छात्र अपने घर पर रहकर अपनी शिक्षा पूर्ण कर सकता है। इस शिक्षण के तरीके में एक छात्र कॉलेज ना जाकर खुद से ही तैयारी करता है। वह छात्र सिर्फ परीक्षा देने के लिए कॉलेज जाता है। इस तरह की पढाई को distance learning कहते हैं।

इस प्रोग्राम में apply करने के बाद छात्र को किताबें उनके घर डाक द्वारा पहुंचा दी जाती हैं। ऐसे कई सारे colleges और universities हैं जो डिस्टेंस लर्निंग की सुविधा उपलब्ध करती हैं। नीचे दी गयी जानकारी में यह विस्तार से बताया गया है कि छात्र Distance Learning Se Graduation Kaise karein. अगर आप भी डिस्टेंस लर्निंग के बारे में सीखना चाहते हैं तो दी गयी जानकारी को ध्यान से पढ़ें।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें? – Distance Learning Se Graduation Kaise Karein 2021

Distance Learning से स्नातक की पढाई करने के लिए सबसे पहले आपको इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि किस college या university में यह सुविधा उपलब्ध है। इसके बाद आप अपने पसंदीदा कॉलेज का चयन करें। फिर आप उस college की शिक्षा प्रणाली से मिलकर distance learning के program में apply कर लें।

इसके बाद आपको प्रत्येक दिन college जाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। आप अपने पढ़ाई को घर से ही जरी रख सकते हैं। सिर्फ परीक्षा के लिए आपको कॉलेज जाना होगा और आपको डिग्री प्राप्त हो जाएगी। आज के समय में लगभग हर किसी के पास internet की सुविधा उपलब्ध है, इस वजह से आप घर बैठे online माध्यम से पढाई कर सकते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग क्यों करनी चाहिए?

डिस्टेंस लर्निंग के माध्यम से Distance education उन छात्रों को करनी चाहिए जो रोज़ कॉलेज जाने में असमर्थ हैं। भारत में काफी सारे ऐसे छात्र हैं जिनकी आर्थिक स्तिथि सही न होने के कारण वे लोग job करते हैं और 12 वीं के बाद की अपनी पढ़ाई पूरी करना चाहते हैं। इस तरह के छात्रों के लिए Distance Learning प्रणाली का आयोजन किया गया है।

डिस्टेंस लर्निंग के तहत छात्र जॉब के साथ ही online पढ़ाई करके graduation के degree हासिल कर सकते हैं। इस प्रणाली के तहत छात्रों को सिर्फ परीक्षा देने के लिए college जाना पड़ेगा।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन की टॉप-10 यूनिवर्सिटी – Top 10 University 2021

  1. इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (IGNOU) 
  2. सिम्बायोसिस सेंटर फॉर डिस्टेंस लर्निंग
  3. यशवंतराव चव्हाण महाराष्ट्र ओपन यूनिवर्सिटी (YCMOU)
  4. महर्षि दयानंद यूनिवर्सिटी
  5. स्कूल ऑफ ओपन लर्निंग (दिल्ली विश्वविद्यालय)
  6. नेताजी सुभाष ओपन यूनिवर्सिटी
  7. मध्य प्रदेश भोज ओपन यूनिवर्सिटी
  8. कर्नाटक स्टेट ओपन यूनिवर्सिटी
  9. डॉ. भीम राव अंबेडकर ओपन यूनिवर्सिटी
  10. तमिलनाडु ओपन यूनिवर्सिटी

डिस्टेंस लर्निंग के फायदे – Distance Learning Advantages 2021

डिस्टेंस लर्निंग से पढ़ने के कुछ फायदे भी जो कि इस प्रकार हैं:

  • डिस्टेंस लर्निंग के तहत छात्र को प्रत्येक दिन कॉलेज जाने की जरुरत नहीं पड़ती है।
  • Distance Learning से graduation करने वाले छात्र घर बैठे ऑनलाइन पढ़ाई कर सकते हैं।
  • इस प्रणाली के तहत स्नातक की पढ़ाई करने वाले छात्र या छात्राएं कहीं पर जॉब भी कर सकते हैं।
  • Distance Learning के तहत स्नातक पढ़ाई करने से स्टूडेंट का समय बच जाता है।
  • जिन स्टूडेंट्स की आर्थिक स्थिति कमजोर है और वो जब करते हैं उन के लिए डिस्टेंस लर्निंग प्रणाली बहुत बढ़िया है।
  • Distance Learning की एक अच्छी बात यह भी है कि छात्र एवं छात्राओं को रेगुलकर की अपेक्षा फीस के तौर पर कम पैसे भुगतान करने पड़ते हैं।

डिस्टेंस लर्निंग के नुकसान – Distance Learning Disadvantages

डिस्टेंस लर्निंग से पढ़ने के कुछ नुकसान इस प्रकार हैं:

  • डिस्टेंस एजुकेशन में सामाजिक संपर्क का अभाव होता है। इसमे घर पर रहकर पढने से लोगों से मिलने का अवसर कम मिलता है।
  • Distance Education में भटकने का हमेशा डर रहता है क्यूंकि इसमें किसी का कोई दबाव नहीं होता इसलिए इसमें अनुशासन की ज़रूरत पड़ती है।
  • डिस्टेंस एजुकेशन में टेक्नोलॉजी के द्वारा पढ़ाई होती है। अतः टेक्नोलॉजी से जुड़ी समझ की कमी आपको नुकसान पहुँचाती है।
  • Distance Learning में उचित मूल्यांकन की कमी जैसी चुनौतियां डिग्री की विश्वसनीयता को संदिग्ध बनाती हैं।

डिस्टेंस लर्निंग या दूरस्थ शिक्षा से जुड़े सवाल व जवाब (FAQ)

1. भारत में दूरस्थ शिक्षा की आवश्यकता क्यों है? 

    भारत में दूरस्थ शिक्षा या Distance Learning की आवश्यकता इस वजह से क्योंकि कुछ स्टूडेंट्स जॉब भी करते हैं, ऐसे स्टूडेंट्स के लिए

     भारत में दूरस्थ शिक्षा की बहुत जरुरत है।

2. दूरस्थ शिक्षा का जनक कौन है?

    Distance Learning या दूरस्थ शिक्षा का जनक आइजक पिटमैन को माना जाता है, क्योंकि इन्होने साल 1840 में पहली बार पत्राचार के

    द्वारा स्टूडेंट्स को शिक्षित करने का काम शुरू किया था।

3. भारत में दूरस्थ शिक्षा की शुरुआत कब हुई?

    भारत की बात करें तो साल 1960 में Distance Learning या दूरस्थ शिक्षा शुरू की गई थी।

4. भारत का सबसे बड़ा मुक्त विश्वविद्यालय कौन सा है?

     डिस्टेंस लर्निंग के मामले में इग्नू विश्व का सबसे बड़ा मुक्त यूनिवर्सिटी है।

डिस्टेंस लर्निंग से ग्रेजुएशन कैसे करें?
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

you can contact us on my email id: harshittandon15@gmail.com

Copyright © 2016 कैसेकरे.भारत. Bharat Swabhiman ka Sankalp!

To Top