Bitcoin Ka Itihas

बिटकॉइन माइनिंग

बिटकॉइन का इतिहास : बिटकॉइन के बारे में आज तक हम लोगो ने सुना ही होगा लेकिन इसका उपयोग कभी किया नहीं होगा बिटकॉइन कैसे मार्केट में आया ?, इसे किसने बनाया ?, क्या यह सरकारी करेंसी है ? और इसका क्या यूज है ? यह सब प्रश्न हमारे मन में उठते है तो हम आपको बिटकॉइन के इतिहास के बारे में बताते है की इसका क्या इतिहास है ? इससे पहले हम बिटकॉइन क्या है और बिटकॉइन कहाँ से खरीदे इसके बारे में पढ़ कर बिटकॉइन के बारे में जानकारी पा चुके है इसीलिए अब हम आपको बिटकॉइन की हिस्ट्री बताते है की क्या कारण है की बिटकॉइन का दाम दिन पर दिन बढ़ता ही चला जा रहा है इन सबकी जानकारी आप हमारी इस पोस्ट द्वारा पा सकते है |

यहाँ भी देखे : बिजली के बिल कैसे भरे ऑनलाइन

बिटकॉइन माइनिंग

Bitcoin Mining : आम भाषा मे माइनिंग का मतलब खुदाई करने के बाद खनिज को बहार निकालना होता है लेकिन बिटकॉइन का कोई रूप आकार नहीं होता इसीलिए इसका उपयोग कंप्यूटर द्वारा ही संभव है और नेटवर्किंग द्वारा ही हम इसका उपयोग कर सकते है | कंप्यूटर की भाषा में माइनिंग का मतलब  बिटकॉइन माइनिंग एक पीयर-टू-पीयर कम्प्यूटर प्रोसेस है जिसका इस्तेमाल विकेंद्रीकृत नेटवर्क पर एक उपयोगकर्ता से दूसरे को बिटकॉयन लेनदेन-भुगतान को सुरक्षित और सत्यापित करने के लिए किया जाता है।

खनन में बिटकॉइन के लेन-देन के आंकड़ों को बीते लेनदेन के ग्लोबल पब्लिक लेज़र को शामिल करना शामिल है। लेन-देन के प्रत्येक समूह को एक ब्लॉक कहा जाता है। ब्लॉक विटकोइन खनिक द्वारा सुरक्षित हैं और एक दूसरे के ऊपर एक श्रृंखला बनाते हैं। पिछले लेन-देन का यह खजाना ब्लॉकचैन कहा जाता है। अवरोधक स्थान के रूप में शेष नेटवर्क के लेनदेन की पुष्टि करता है। बिटकॉइन नोड्स ब्लैकचैन का उपयोग वैध बिटकॉइन लेनदेन को प्रयासों से अलग करने के लिए करते हैं ताकि सिक्कों को फिर से खर्च किया जा सके |

Bitcoin Ka Itihas

यहाँ भी देखे : मार्केटिंग कैसे करे

Bitcoin In Hindi

बिटकॉइन इन हिंदी : 6 अगस्त 2010 को बिटकॉइन प्रोटोकॉल में जोखिम देखा गया । ब्लॉकचैन में शामिल किए जाने से पहले लेनदेन ठीक से सत्यापित नहीं हुए थे, जो उपयोगकर्ताओं को बिटकॉइन के आर्थिक प्रतिबंधों को बाधित करते हैं और बिटकॉइन की एक अनिश्चित संख्या का निर्माण करते हैं। 15 अगस्त को, भेद्यता का शोषण किया गया; 184 अरब से अधिक बिटकॉइन लेनदेन में उत्पन्न हुए, और नेटवर्क पर दो पते पर भेजा गया। कुछ ही घंटों के भीतर, लेन-देन को देखा गया था और बग तय होने के बाद लेनदेन लॉग से मिटा दिया गया था और क्योकि नेटवर्क बिटकॉइन प्रोटोकॉल के अद्यतित संस्करण को फोर्क किया था यह हमने आपको बिटकॉइन के इतिहास से सम्बंधित कुछ जरुरी जानने योग्य बाते बताई है इन्हे जान सकते है :

  1. बिटकॉइन को एक जापानी व्यक्ति Satoshi Namakoto द्वारा सं 2008 में बनाया गया था संतोषी नामकोतो एक क्रिप्टीग्राफी और कप्यूटर साइंस का बहुत बड़ा विशेषज्ञ था | उसने बिटकॉइन को हैकर से सुरक्षित रखने के लिए ऑनलाइन ट्रांसक्शन के रूप में इस डिजिटल करेंसी का निर्माण किया था |
  2. जिस तरह से हर करेंसी का सबसे छोटा भाग उसकी सबसे छोटी करेंसी होती है उसी तरह बिटकॉइन का सबसे छोटा भाग संतोषी होता है जिसमे की एक बिटकॉइन = 100,000,000 satoshi के बराबर होता है |
  3. इसकी शुरुआत 3 जनवरी 2009 को हुई थी और यह विश्व की पहली क्रिप्टो मनी थी और विश्व का पहला पूर्णतया खुला भुगतान तंत्र है |
    अब तक दुनिया भर में 1 करोड़ से अधिक लोगो के पास बिटकॉइन है जिसकी पूरी कीमत 55 हज़ार करोड़ होती है |
  4. आज के समय में एक बिटकॉइन की कीमत लगभग 2,96,616 रुपये है लेकिन समय-2 पर इसकी कीमत घटती और बढ़ती रहती है |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*