दशहरा का महत्व – विजयादशमी

दशहरा कितने तारीख को है

Dussehra Ka Mahatv – Vijayadashami : दशहरा हिन्दू धर्म के प्रमुख त्यौहारो में से एक त्यौहार होता है इस दिन हिन्दू धर्म में लोग अस्त्र शास्त्र की पूजा करते है व नए काम करना प्रारम्भ करते है | इस दिन को मनाने का मुख्य कारण है की इस दिन भगवान राम ने रावण का वध किया था और इस दिन को विजयादशमी कहने के पीछे भी कारण है | इस दिन को विजयादशमी इसीलिए कहते है क्योकि जब भगवान राम ने रावण का वध किया था उस दिन अश्विन (क्वार) मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि थी इसीलिए इस दिन को विजयदशमी के नाम से जाना जाता है तो हम आपको दशहरा के बारे में जानकरी देते है की इसका क्या महत्त्व है ?

यह भी देखे : Onam Festival In Hindi

दशहरा कितने तारीख को है | दशहरा कब है

Dussehra Kitne Tarikh Ko Hai | Dussehra Kab Hai : विजयादशमी का यह त्यौहार नवरात्री के बाद विजयपर्व के रूप में मनाया जाता है और यह हर बार अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को पड़ती है और अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इस बार यानि 2017 में विजयादशमी 30 सितम्बर के दिन मनाया जाता है |

यह भी देखे : Vishwakarma Jayanti In Hindi

दशहरा का महत्व - विजयादशमी

दशहरा क्यों मनाया जाता है

Dussehra Kyo Manaya Jata Hai : इस दिन को हिन्दू धर्म में असत्य पर सत्य की जीत के लिए मनाया जाता है क्योकि इस दिन पुरुषोत्तम श्रीराम ने रावण जैसे राक्षस का वध किया तथा उसे संसार से हमेशा के लिए विदा किया | इसके अलावा इसी दिन माँ दुर्गा ने महिषासुर को भी वध किया था इसके लिए उन्होंने नौ रात और दस दिन तक महिषासुर से युद्ध किया अंत में दंसवे दिन उनका वध किया और उस दिन अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि थी इसीलिए उसे विजयादशमी के रूप में जाना जाता है |

यह भी देखे : Saraswati Puja Vidhi

विजयादशमी का महत्व

Vijayadashami Ka Mahatv : हिन्दू धर्म में विजयादशमी का दिन बहुत महत्व रखता है क्योकि इस दिन को बुराई पर अच्छाई की जीत के दिन के रूप में मनाया जाता है | जब भगवान राम ने इस दिन रावण को मृत्यु शय्या पर पहुंचा दिया था तब उन्होंने लगभग अपने काल की आधी से ज्यादा बुराईयो का नाश कर दिया | इस दिन का महत्व पुरे भारत में बड़े ही हर्षोउल्लास के साथ मनाया जाता है इस दिन सभी लोग रावण का बड़ा पुतला बना कर उसे जलाते है और जीत का जश्न मानते है और कई लोग इस दिन अपने सभी औज़ारो तथा अस्त्र शरत्रो की पूजा करते है |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*