गुरुपुष्यामृत योग 2017

गुरुपुष्यामृत योग 2017

Gurupushyamrut Yoga 2017 : गुरुपुष्यामृत योग का साल भर में बहुत कम दिन पड़ता है यह योग गुरुवार के दिन जब पुष्य नक्षत्र होता है  उसी दिन पड़ता है इस दिन कोई भी शुभ काम करने पर उस काम में शत-प्रतिशत सफलता प्राप्त होती है और यह दिन बहुत योग से आता है इस दिन माँ लक्ष्मी की पूजा की जाती है तो आज हम आपको इस महत्वपूर्ण योग के बारे में जानकारी देते है की इस योग का क्या महत्व है और यह क्यों आता है यह बहुत पवित्र माना जाता है |

यह भी देखे : Maha Shivaratri

Gurupushyamrut Yoga 2017 Dates

गुरुपुष्यामृत योग 2017 डेट्स : इस साल में कुल पांच नक्षत्रो का योग है गुरुपुष्यामृत का योग 2017 में भी बन रहा है जिसकी तारीख़ और शुभ समय इस प्रकार है इस-2 दिन यह योग बन रहा है  :

गुरुवार – 12th जनवरी, 2017
(1:19 PM से 13 जनवरी 6:38 AM तक)

गुरुवार – 9th फरवरी, 2017
(10:40 AM से 10 जनवरी 6:38 AM तक)

गुरुवार – 9th मार्च, 2017
(6:38 AM से 5:13 PM तक)

गुरुवार – 9th नवम्बर, 2017
(1:39 PM से 10 नवम्बर 6:09 AM

गुरुवार – 7th दिसम्बर, 2017
(6:08 AM से 7:55 PM तक)

यह भी देखे : Vijaya Ekadashi

Gurupushyamrut Yoga 2017 Dates

गुरु पुष्य नक्षत्र का महत्व

Guru Pushya Nakshatra ka Mahatv : धार्मिक ग्रंथो के अनुसार पुष्य नक्षत्र सबसे शुभ नक्षत्र है क्योंकि इस दिन ही धन की देवी माँ लक्ष्मी का जन्म हुआ था  जब पुष्य नक्षत्र गुरूवार या रविवार को होता है तो इसको क्रमशः गुरुपुष्यामृत या रविपुष्यामृत के नाम से जाता है।क्योंकि पुष्य नक्षत्र का स्वामी गुरू होता है इस योग को धनतेरस, अक्षय तृतिया एवं दिवाली की तरह पवित्र दिन माना जाता है इसके अलावा विद्वानों के अनुसार कहा जाता है की पुष्य नक्षत्र गुरू के फैलाव एवं शनि के मूल गुण धैर्य का संयोजन है। क्योंकि पुराणों में भी लिखा है की इस दिन कोई भी काम शुरू करने से उसका परिणाम हमारी उम्मीद से दुगुना आता है अगर आप कोई भी शुभ कार्य आरम्भ करना चाहे तो इस दिन के साथ ही शुरुआत करे यकीन माने निश्चित ही आपका कार्य सफल होगा |

यह भी देखे : Magha Purnima

Guru Pushya Yoga in 2017

गुरु पुष्य योग इन 2017 : ज्योतिष के अनुसार पुष्य नक्षत्र में आप कोई सोने-चाँदी, की खरीददारी को भी अच्छा माना जाता है और इसके अलावा आप अपनी राशि के मुताबिक रत्न भी धारण कर सकते है जो की आपके जीवन को सुखद बनाने के लिए अहम् भूमिका निभाता है इस दिन पर किये गए कार्यो का परिणाम सकारात्म्क होता है । इसके अलावा श्री यंत्र एवं गुरु यंत्र समेत अन्य यंत्र खरीदने के लिए भी समय शुभ है इस दिन अगर आप किसी भी कार्य में सीधी चाहते है तो आपको अपने इष्ट भगवान से इच्छापूर्ति प्रार्थना करके अवश्य करनी चाहिए जिससे कीमनचाही सिद्धि निश्चित ही लाभप्रद होगी |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*