Santan Gopal Mantra

Santan Gopal Mantra

संतान गोपाल मंत्र : अगर आपके कोई भी संतान की प्राप्ति नहीं है या किसी कारणवश गर्भपात हो रखा है तो आप संतान गोपाल मंत्र के नियमित जाप से इस संतान प्राप्ति कर सकते है आज हम आपको इस मंत्र के बारे में जानकारी देते है की इस मन्त्र को किस तरह से पढ़ेंगे या इस मंत्र को पढ़ने से आपको क्या लाभ मिलता है इस मंत्र से भगवान श्री कृष्ण के बचपन के चरित्र का वर्णन मिलता है |

यह भी देखे : Sheetala Ashtami

Gopal Santan Prapti Mantra in Hindi

गोपाल संतान प्राप्ति इन हिंदी : संतान प्राप्ति के लिए आप पढ़ सकते है हमारे इस मंत्र को जो की काफी महत्वपूर्ण है आपके लिए अगर आप कई चिकित्सक पद्धतियों को अपनाने के बाद भी निराश हाथ लगी तो आप इस मंत्र को पढ़िए जिसे पढ़ कर आपको इसका फल अवश्य प्राप्त होगा और आपको शीध्र ही संतान की प्राप्ति होगी इसके आल्वा आप संतान गोपाल यन्त्र को भी अपने घर में रख सकते है जिसेक सकारात्मक प्रभाव से आपको जल्द ही संतान प्राप्ति होगी |

यह भी देखे : Papmochani Ekadashi

Santan Prapti Mantra

संतान प्राप्ति मंत्र के लिए आप इस मंत्र को पति-पत्नी दोनों संकल्पपूर्वक, प्रतिदिन, नियमित तथा विधिवत रूप से, धुप-दीप-नैवैद्य के साथ करना चाहिए :

ॐ श्रीं ह्रीं क्लीं ग्लौं देवकीसुत गोविन्द वासुदेव जगत्पते।

देहि मे तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गत:।।

Santan Gopal Yantra
Gopal Santan Prapti Mantra in Hindi

संतान गोल यन्त्र : इस यन्त्र के उपयोग से आपका वविवाहिक जीवन अत्यंत लाभप्रद साबित होता है और बहुत सुखद जीवन व्यतीत होता है यह यन्त्र इसके अलावा आपके सपनो को भी पूरा करता है इस यन्त्र के लाभ से आपके सम्पूर्ण जीवन उल्लास से भर जाता है संतान गोपाल यंत्र का लाभ उठाने के लिए सुयोग्य ज्योतिष व पंडित से सलाह लेकर, शुद्धिपूर्वक स्थापना करनी चाहिए | इस यन्त्र की स्थापना के लिए आपको विशेष पूजन अथवा अपने पंडित से शुभ मुहूर्त निकल कर ही करनी चाहिए |

यह भी देखे : Chaitra Navratri

Santan gopal mantra for baby boy

संतान गोपाल मंत्र फॉर बेबी बॉय : संतान गोपाल प्राप्ति के लिए संतान गोपाल मन्त्र का जाप व्यक्ति को श्री कृष्णा जन्माष्टमी अथवा शुभ मुहूर्त पर ही करना चाहिए | इस मंत्र का प्रयोग किसी ब्राहण द्वारा श्रद्धपूर्वक करवाना अनिवार्य है किसी अन्य स्थिति में चाहे तो जातक स्वयं भी प्रारम्भ कर सकता है वैसे स्वयं पाठ करना अति श्रेष्ठकर माना जाता है मंत्र का जाप करने से पहले आपको विनियोग, अंगन्यास और अपने इष्ट देव का ध्यान करना चाहिए और बीज मंत्र का जाप करना भी अत्यंत लाभदायक मन गया है |

loading...

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*