Parashurama Jayanti

Parashurama Jayanti

परशुराम जयंती : भगवान परशुराम एक अत्यंत बलशाली थे और अपने पिता की आज्ञा का पालन करते थे  परशुराम जी की जयंती हम हिन्दू पंचांग के अनुसार वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है | इस दिन का विशेष महत्व इसीलिए भी और अधिक है क्योकि इसी दिन से तृतीया युग का आरम्भ हुआ था | तो आज हम आपको भगवन परशुराम की जयंती के सम्बन्ध में जानकरी देते है की ये जयंती क्यों मनाई जाती है और इस जयंती का क्या महत्व है | इस जयंती में हम परशुराम मंत्र का भी पाठ करते है जिससे की आपको और अधिक सिद्धि प्राप्त होती है |

यहाँ भी देखे : Varuthini Ekadashi 2017

Parshuram Jayanti 2017 Date

परशुराम जयंती 2017 डेट : परशुराम जयंती हर साल हिंदी पंचांग के अनुसार वैशाख माह की शुक्ल पक्ष की तृतीया को ही मनाई जाती है लेकिन हर साल अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार इसकी तारीख़ अलग-2 होती है इसीलिए 2017 में यह 28 अप्रैल को मनाई जाएगी |

यहाँ भी देखे : Hanuman Jayanti

Parshuram Jayanti 2017 Date

Parshuram Jayanti In Hindi

परशुराम जयंती इन हिंदी : भगवान परशुराम जी की एक साहसी व पराक्रमी थे इसीलिए हम आपको भगवान परशुराम के जन्म के बारे में बताते है | महर्षि भृगु के पुत्र ऋचिक का विवाह राजा गाढ़ी की सत्यवती नामक पुत्री से हुआ और उसके बाद सत्यवती को अपनी माता के लिए पुत्र की चाह थी | और महर्षि भृगु ने सत्यवती को दो फल दिए और आदेश दिए की इसमें से एक फल शाम को स्नान करने के बाद गूलर के वृक्ष की आलिंगन करके और तुम्हरी माता पीपल के वृक्ष की आलिंगन करके ये फल खा लेना |
किन्तु सत्यवती से इस कार्य में गलती हो गयी और इस बात का पता महर्षि भृगु को लगा और उन्होंने कहा की अपने गलत वृक्ष का आलंगन किया है इसीलिए उन्होंने कहा की तुम्हरा पुत्र होगा ब्राह्मण ही लेकिन उसका आचरण क्षत्रियो वाला रहेगा | तब सत्यवती ने कहा की ऐसा न हो अगर कही तो मेरा पुत्र का पुत्र क्षत्रिय स्वाभाव वाला हो जाये तो महर्षि भृगु ने कहा की ऐसा ही होगा | तभी इसी छोटी गलती से भगवान परशुराम का जन्म हुआ |

यहाँ भी देखे : Hanuman Ji Ki Katha

परशुराम जयंती का महत्व व आयोजन

Parshurama Jayanti Ka Mahatv : भगवान परशुराम की जयंती के लिए कई तरह के आयोजन किये जाते है जिनका हमारे जीवन में बहुत बड़ा महत्व है

  • इस दिन शोभा यात्रा, जुलुस व कीर्तन किये जाते है और इस दिन भगवान परशुराम को मानने वाले सभी ब्राह्मण धर्म के लोग भरी संख्या में शामिल होते है |
  • इस दिन सभी ब्राह्मण वर्ग के लोग पूजा का आयोजन करते है और इसी दिन अक्षय तृतीया मनाई जाती है | जिसमे की सभी लोग बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते है |
  • इस दिन बहगवां परशुराम के भक्त जगह-2 भंडारा करवाते है और उनकी जयंती के लिए भंडारे का प्रसाद सब लोगो को बांटते है |
  • इस दिन का महत्व इसीलिए भी मन जाता है क्योकि कुछ लोग ये सोचते है की अगर वे इस दिन व्रत रखते है तो उन्हें भगवान परशुराम की तरह, निडर, ज्ञानी व पराक्रमी पुत्र की प्राप्ति होगी |
  • वराह पुराणों के अनुसार इस दिन व्रत रखने से अगले जन्म में राजा बनने का योग प्राप्त होता है |

You have also Searcehd for : 

parshuram jayanti quotes in hindi
parashurama jayanti 2017
bhagwan parshuram date of birth
parshuram jayanti wishes
parshuram birth date
parshuram birthplace

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*