makar sankranti 2017 in hindi | मकर संक्रांति कैसे मनाये

मकर संक्रांति कैसे मनाये

makar sankranti: जैसे ही  2017 शुरू हुआ है त्योहारो की धूम भी मचने लगी है| ऐसे में सबसे पहले त्यौहार हैं लोहड़ी व मकर संक्रांति | यह त्यौहार सूर्य के धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करने पर मनाया जाता है मकर संक्राति हिन्दुओ के पवित्र त्योहारो स माना जाता है जिसके अन्तर्गत इस त्यौहार को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है |

यह भी देखे : Navratri Colour 2017

मकर संक्रांति इन हिंदी

मकर संक्रांति हिन्दुओ का बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार है इस त्यौहार को पुरे भारत में अलग अलग रूप में मनाया जाता है वैसे तो यह त्यौहार हर साल जनवरी माह की चौदह ताऱीख को मनाया जाता है किसी घटना के उपरांत ये त्यौहार चौदह ताऱीख के बजाय जनवरी माह की किसी और तारीख को भी पड़ जाता है यह इस बात पर निर्भर करता है कि सूर्य कब धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करेगा इसी संक्रांति की ताऱीख इसी पर निभर करती है |

मकर संक्रांति के रूप

संक्रांति का त्यौहार पुरे भारत में अलग अलग तरह से मनाया जाता है जैसे की यूपी व बिहार में संक्रांति, पंजाब और हरियाणा में लोहड़ी, दक्षिण भारत में पोंगल, असम में बिहू नाम से मनाया जाता है |

यह भी देखे : कैसे करे शिव पूजा

 

makar sankranti 2017 in hindi

मकर संक्रांति की पूजा विधि

संक्रांति का त्यौहार दान और पुण्य करने का पर्व भी माना जाता है जिसके अन्तर्गत संक्रांति के दिन पुण्य काल में दान देना, स्नान करना या श्राद्ध कार्य करना शुभ माना जाता है। इस साल यह शुभ मुहूर्त 14 जनवरी, 2017 को सुबह 7 बजकर 50 मिनट से लेकर दोपहर 05 बजकर 57 मिनट तक का है भविष्यपुराण के अनुसार इस दिन व्रत करना चाहिए इस दिन आपको दिन में एक बार तेल और तिल मिश्रित जल में स्नान करना चाहिए और स्नान करने के बाद आपको सूर्यदेव की स्तुति भी करनी चाहिए वैसे इस दिन गंगा स्नान या दान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है और इस दिन युवाओ द्वारा पतंगबाज़ी भी की जाती है

मकर संक्रांति पूजा मंत्र :

मकर संक्रांति का दिन सूर्यदेव की पूजा में लगाया जाता है तो आज हम आपको बताएँगे की इस दिन सूर्यदेव की निम्न मंत्रों से पूजा करे :

  • ऊं सूर्याय नम:
  • ऊं आदित्याय नम:
  • ऊं सप्तार्चिषे नम:
  • अन्य मंत्र हैं- ऋड्मण्डलाय नम: , ऊं सवित्रे नम: , ऊं वरुणाय नम: , ऊं सप्तसप्त्ये नम: , ऊं मार्तण्डाय नम: , ऊं विष्णवे नम:

 

 

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*