कहानी राजा हरिश्चंद्र की

राजा हरिश्चंद्र फिल्म

Kahani Raja Harishchandra Ki : राजा हरिश्चन्द्र जो बहुत बड़े सत्यवादी थे वे हमेशा सत्य की रह पर चलते थे आज हम आपको हरिश्चंद्र जी के बारे में जानकारी देते है यानि उनकी कहानी की क्यों उन्हें महान कहा जाता है ? राजा हरिश्चन्द्र जी की हस्ती जो हमारे सामने है वह किसी के सामने छुपी नहीं है वैसे तो हमारे कई महापुरुष हुए राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी, शिवाजी और महाराणा प्रताप और अन्य भी कई | लेकिन हमारे राजा बीच सतवादी राजा हरिश्चन्द्र ने अपनी जो छाप छोड़ी वो काबिले तारीफ है आज हम आपको उन्ही के जीवन के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी देते है जिससे की आप उस हस्ती के बारे में काफी कुछ जान सकते है |

यह भी देखे : मुंशी प्रेमचंद

राजा हरिश्चंद्र फिल्म

हमारे देश के फ़िल्मी क्षेत्र में भी राजा हरिश्चन्द्र की ऊपर फिल्म बन चुकी है जो की बहुत प्रसिद्ध कलाकरो द्वारा निर्मित है तो आप उस फिल्म को इस लिंक के माध्यम से https://www.youtube.com/watch?v=3Zevm0Zjc-k देख सकते है और जान सकते है राजा हरिश्चन्द्र की हस्ती के बारे में |

यह भी देखे :  Abraham Lincoln Biography in Hindi

कहानी राजा हरिश्चंद्र की

राजा हरिश्चंद्र की कहानी हिंदी में

सत्यवादी हरिश्चन्द्र जी अयोध्या के सूर्यवंशी राजा थे इनके पिता का नाम सत्यव्रत था ये एक सत्यवान व्यक्ति थे और अपनी सत्यनिष्ठा पर अटल रहते थे जिसकी वजह से इन्हें कई कष्ट झेलने पड़े शादी के बाद तक ये कई दिनों तक पुत्रविहीन रहे परंतु कुलगुरु वशिष्ट के उपदेशानुसार इन्होंने वरुणदेव की उपासना की तब जाकर उनके पुत्र इस शर्त पर हुआ की उस पुत्र की बलि हरिश्चंद्र यज्ञ में करनी पड़ेगी इन्होंने अपने पुत्र का नाम रोहिताश रखा | हरिश्चंद्र जी को राजा द्वारा जलोदर रोग होने का श्राप दिया गया |

यह भी देखे : महाराणा प्रताप हिस्ट्री

सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र की कथा

किन्तु रोग से भयभीत होकर छुटकारा पाने के लिए वे राजा वशिष्ठ के पास वरुणदेव को प्रसन्न करने के लिए उनके द्वार पहुचे और इंद्रा ने रोहिताश को वन में भेज दिया राजा ने वशिष्ठ जी की सम्मति से अजीगर्त नामक एक दरिद्र ब्राह्मण के बालक शुन:शेपको खरीदकर यज्ञ की तैयारी की लेकिन जब बलि देने का समय आया तो शमिता ने कहा की मैं केवल पशु की बलि देता हु मनुष्य की नहीं देता | और फिर विश्वामित्र ने आकर शुन:शेप को एक मंत्र बताया और हरिश्चन्द्र इसका जाप करने लगे मंत्र के जाप से वरुणदेवता स्वयं प्रकट हुए और बोले, हरिश्चन्द्र तुम्हारा यज्ञ पूरा हो गया इस ब्राह्ण कुमार को छोड़ दो और इसकी वजह से उन्होंने उन्हें जलोदर रोग से भी मुक्त कर दिया |

You have also Searched for : 
राजा हरिश्चंद्र की वंशावली
राजा हरिश्चंद्र की नौटंकी
राजा हरिश्चंद्र विडियो
राजा हरीश चन्द्र

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*